Rochak Jankari #8 मरने से पहले इंसानी दिमाग क्या सोच रहा होता है? marne se pahle insaan ka dimag kya soch raha hota hai?

Rochak Jankari #8 मरने से पहले इंसानी दिमाग क्या सोच रहा होता है? marne se pahle insaan ka dimag kya soch raha hota hai?

Rochak Jankari #8 मरने से पहले इंसानी दिमाग क्या सोच रहा होता है? marne se pahle insaan ka dimag kya soch raha hota hai?
Rochak Jankari #8


Rochak Jankari #8 ये एक सच में रोचक सवाल है जिसका उत्तर जानने के लिए हर कोई उत्सुक रहता है, आखिर इंसान की मृत्यु के बाद उसका दिमाग भी मर जाता है या वह तब भी कुछ सोच रहा होता है, आइये जानते हैं।


दोस्तों वैज्ञानिकों ने इस रहस्मयी अनसुलझे राज को सुलझाने के लिए एक अध्ययन किया था तब उन्होंने पाया की जानवरों और मनुष्य के दिमाग मरते समय दोनों एक ही तरीके से काम करते हैं।

लेकिन दोस्तों एक वक्त ऐसा भी आता है जब दिमाग के काम-काज की आभाशीय रूप से बहाली हो सकती है।

Rochak Jankari #8 दरअसल वैज्ञानिकों की टीम यह अच्छी तरह से समझना चाहती थी की आखिर इंसानी दिमाग में मौत के समय क्या चल रहा होता है, इसके लिए वैज्ञानिकों ने कुछ मरीजों के दिमाग की नुरोलोजिकल गतिविधियों की निगरानी भी की साथ ही साथ यह निर्देश भी दिए गए की मरीजों को एलेक्ट्रोस स्टिक आदि का इस्तेमाल करके बेहोशी वापस ना लायी जाये।


Rochak Jankari #8 इस दौरान उन वैज्ञानिकों ने पाया की 9 में से 8 मरीजों के दिमाग की कोशिकाएं आने वाली मौत को टालने की कोशिश कर रही थीं साथ ही उन्होंने यह भी पाया की दिल की धड़कन रुकने के बाद भी दिमाग की कोशिकाएं और नयूरोंस काम कर रहे थे।

Rochak Jankari #8 मरने से पहले इंसानी दिमाग क्या सोच रहा होता है? marne se pahle insaan ka dimag kya soch raha hota hai?


Also Read - ( यह भी पढ़ें )


Rochak Jankari #7 दुनिया के सबसे पहले मोबाइल की कीमत कितनी थी? duniya ke pahle mobile ki keemat kitni thi?

Rochak Jankari #7 दुनिया के सबसे पहले मोबाइल की कीमत कितनी थी? duniya ke pahle mobile ki keemat kitni thi?

Rochak Jankari #7 दुनिया के सबसे पहले मोबाइल की कीमत कितनी थी? duniya ke pahle mobile ki keemat kitni thi?
Rochak Jankari #7



Rochak Jankari #7 दोस्तों मोबाइल फ़ोन ने पूरी दुनिया में एक चमत्कारिक बदलाव ला दिया है, वर्षों पहले लोग सोच भी नहीं सकते थे की एक ऐसा भी आविष्कार होगा! जिससे हम दुनिया के किसी भी कोने में किसी भी व्यक्ति से बात कर सकेंगे।


Rochak Jankari #7 What is the price of world's first mobile?


मोबाइल फ़ोन के कारन हर क्षेत्र में क्रन्तिकारी बदलाव आये हैं।

आइये अब जानते हैं अपने रोचक सवाल का जवाब यानि दुनिया में सबसे पहला मोबाइल फ़ोन कितने रुपये में बिका था?



Rochak Jankari #7 दोस्तों सबसे पहला मोबाइल फ़ोन अमेरिका में जो 1983 में बिका था, इस मोबाइल फोन की कीमत 2,65,369 रुपये थी।




दोस्तों आपको मोबाइल फ़ोन से जुडी एक और जानकारी देते हैं, जापान में 90% मोबाइल फ़ोन वाटरप्रूफ होते हैं क्योंकि जापान में लोग नहाते समय भी मोबाइल फ़ोन का उपयोग करते हैं।

उम्मीद करता हूँ दोस्तों यह जानकारी आपको पसंद आई होगी, यदि आपके दिमाग में भी कोई ऐसा ही रोचक प्रश्न हो तो कृपया कमेंट बॉक्स में हमें जरुर बताएं, हम आपके प्रश्न का उत्तर देने की पूरी कोसिस करेंगे, धन्यवाद!

Rochak Jankari #7 दुनिया के सबसे पहले मोबाइल की कीमत कितनी थी? duniya ke pahle mobile ki keemat kitni thi?


Also Read - यह भी पढ़ें

Rochak jankari #6 लड़कियों को ज्यादा ठण्ड क्यों लगती है? ladkiyo ko jyada thand kyu lagti hai?

Rochak jankari #6 लड़कियों को ज्यादा ठण्ड क्यों लगती है? ladkiyo ko jyada thand kyu lagti hai?


Rochak jankari #6 लड़कियों को ज्यादा ठण्ड क्यों लगती है? ladkiyo ko jyada thand kyu lagti hai?
Rochak jankari #6


Rochak jankari #6 दोस्तों महिलाओं को अक्सर ज्यादा ठण्ड लगती है क्योंकि उनके शारीर की बनावट ही कुछ इस तरह की होती है।

यह बात तमाम रिसर्च से साबित हो चुकी है की महिलाओं को ठण्ड की अनुभूति पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती है।


Rochak jankari #6 दोस्तों महिलाओं में वसा यानि बॉडी फैट अधिक होता है तो उसके शारीर में गर्माहट बनाये रखने में मदद करता है लेकिन जो महिलाएं ऑफिस वर्क करती हैं उनका मूवमेंट कम होता है इससे उनका मेटाबोलिक रेट मर्दों से 35% फ़ीसदी कम हो जाता है जिसका परिणाम यह होता है की उनके शारीर में गर्मी कम पैदा होती है और उससे शारीर के अन्दर ठण्ड होने के कारन, महिलाओं को ठण्ड ज्यादा लगती है।

उम्मीद करता हूँ दोस्तों की यह रोचक जानकारी आपको जरुर पसंद आई होगी, तथा आप इसे अवश्य शेयर करेंगे, यदि आपके दिमाग में भी कोई ऐसा ही रोचक सवाल हो तो हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं, हम आपके सवालों के जवाब देने की पूरी कोसिस करेंगे, धन्यवाद!


Rochak jankari #6 लड़कियों को ज्यादा ठण्ड क्यों लगती है? ladkiyo ko jyada thand kyu lagti hai?


Also Read - यह भी पढ़ें


Rochak Jankari #5 सुहागरात में पान क्यों खिलाया जाता है? Suhagrat me paan kyu khilaya jata hai?

Rochak Jankari #5 सुहागरात में पान क्यों खिलाया जाता है? Suhagrat me paan kyu khilaya jata hai?

Rochak Jankari #5 सुहागरात में पान क्यों खिलाया जाता है? Suhagrat me paan kyu khilaya jata hai?
Rochak Jankari #5


Rochak Jankari #5 प्यारे दोस्तों आखिर सुहागरात के दिन पान क्यों खिलाया जाता है इसका जवाब जानने के लिए लोगों में उत्सुकता बनी रहती है, तो आइये दोस्तों जानते हैं इसके पीछे क्या कारन है।


दोस्तों अंदरूनी शारीरिक शक्ति बढ़ने के लिए पुराने समय से ही पुराने घरेलु नुस्खों के इस्तेमाल की बात हमेशा सामने आती रही है, आयुर्वेद के मुताबिक पान अंदरूनी शारीरिक शक्ति को बढ़ने के लिए काफी बेहतर होता है हालाँकि पान तो लोग व्रत या मौत फ्रेशनर के रूप में ऐसे ही खाते हैं।

दोस्तों पहले के ज़माने में सुहागरात के दिन पति को पान खिलाने की परंपरा भी थी।


Rochak Jankari #5 आपके वैवाहिक जीवन को बेहतर बनाने में पान मदद करता है, आपको तो पता ही होगा की एक पान को बनाने के समय सुपारी डाला जाता है जो की कामउत्तेजक का काम करती है, पान को बनाने में जो सुपारी,लौंग और गुलकंद डाला जाता है वह शारीर की पाचन शक्ति को बढ़ने के साथ साथ उत्तेजना को भी बढाता है साथ ही पान प्रजनन शक्ति को भी बेहतर करता है।

दोस्तों पान खाने का सबसे अच्छा तरीका यह ह की आप इसको आप लम्बा करके मुह में दाल कर चबाएं फिर इसे मुह के एक कोने में रख दें जब तक की वह घुल न जाए, पान खाने के आधे घंटे तक कुछ भी नहीं खाना चाहिए।

जानकारों के मुताबिक पान जब अच्छी तरह घुल जाता है तब वह आपको शक्ति प्रदान करता है।



Rochak Jankari #5 सुहागरात में पान क्यों खिलाया जाता है? Suhagrat me paan kyu khilaya jata hai?


Also Read - ( यह भी पढ़ें )


Rochak Jankari #4 हवाई जहाज में हॉर्न क्यों लगे होते हैं? airplane me horn kyu hote hain?

Rochak Jankari #4 हवाई जहाज में हॉर्न क्यों लगे होते हैं? airplane me horn kyu hote hain?

Rochak Jankari #4 हवाई जहाज में हॉर्न क्यों लगे होते हैं? airplane me horn kyu hote hain?
Rochak Jankari #4


Rochak Jankari #4 प्यारे दोस्तों कार,ट्रक,बस और बाइक में तो हॉर्न होते ही हैं लेकिन क्या अपने कभी यह सुना है की हवाई जहाज में भी हॉर्न होते हैं?


Rochak Jankari - Why Airplane Has Horn?


जी हाँ दोस्तों हवाई जहाज में भी हॉर्न लगे होते हैं, दोस्तों हवाई जहाज में लगे हॉर्न का प्रयोग लोगो को सतर्क करने के लिए किया जाता है लेकिन इनका इस्तेमाल कार और बाइक में लगे हॉर्न की तरह से नहीं किया जाता।

कहने का मतलब यह है की हवाई जहाज का पायलट प्लेन को उड़ाते हुए नहीं बजा सकता, हवाई जहाज के हॉर्न का इस्तेमाल सिर्फ जमीन पर ही किया जाता है।


Rochak Jankari #4 हवाई जहाज में दिए गए हॉर्न का इस्तेमाल ग्राउंड इंजिनियर और स्टाफ से संपर्क साधने और उन्हें किसी खतरे से सावधान रहने के लिए किया जाता है, यदि उड़ान से पहले हवाई जहाज में कोई खराबी आजाये या आपातकाल की स्थिति हो तो जहाज के अन्दर बैठे पायलट इस हॉर्न को बजा कर ग्राउंड इंजिनियर को सतर्क करते हैं।

दोस्तों इस हॉर्न का बटन हवाई जहाज के कॉकपिट में लगा होता है और यह कॉकपिट में लगे अन्य कण्ट्रोल बटन की तरह ही होता है जिसके कारन इसे ढूँढना मुस्किल होता है, इस बटन के ऊपर GND यानि ग्राउंड लिखा हुआ होता है और इस बटन को दबाते ही हवाई जहाज का अलर्ट सिस्टम चालू हो जाता है और सायरन जैसी आवाज निकलने लगती है।


हवाई जहाज में हॉर्न लैंडिंग गियर के कॉकपिट में लगा हुआ होता है।

Rochak Jankari #4 हवाई जहाज में हॉर्न क्यों लगे होते हैं? airplane me horn kyu hote hain?


Also Read - यह भी पढ़ें






Rochak Jankari #3 भारी वजन तोलने वाले कांटे को "धर्म काँटा" क्यों कहा जाता है? bhari wajan tolne wale kaante ko dharamkaanta kyu kahte hain?

Rochak Jankari #3 भारी वजन तोलने वाले कांटे को "धर्म काँटा" क्यों कहा जाता है? bhari wajan tolne wale kaante ko dharamkaanta kyu kahte hain?

Rochak Jankari #3 भारी वजन तोलने वाले कांटे को "धर्म काँटा" क्यों कहा जाता है? bhari wajan tolne wale kaante ko dharamkaanta kyu kahte hain?
Rochak Jankari #3


Rochak Jankari #3 दोस्तों पुराने ज़माने में माल तोलते वक्त डंडी मारने अथवा बेईमानी से माल को कम तोलकर देना सौदागरों की आम आदत हुआ करती थी, जो की हम आम जिंदगी में देखते हैं अब भी जारी है।


दोस्तों कई इमानदार व्यापारी जो अपना व्यापर ईमानदारी से करते थे वे अपने तोलने वाले तराजू अथवा कांटे को धर्म के अनुसार सही तोलकर देने के कारन उसे धर्म काँटा कहते थे।

आपको तो यह पता ही होगा की पुराने ज़माने में तराजू को काँटा भी कहा जाता था।

Rochak Jankari #3 जब व्यवसायिक हैवी कैपेसिटी की गाड़ियां व ट्रक तोलने वाले प्लेटफार्म बैलेंस भारत में आये तो उनके वजन तोलने की सटीकता बहुत ही अच्छी होती थी, उनकी विशेषता का भरोषा दिलाते हुए किसी व्यवसायिक बुद्धि वाले व्यापारी ने अपने प्लेटफार्म तोल कांटे का नाम धर्म काँटा रख दिया था और बहुत जल्दी ही यह नाम बहुत लोकप्रिय हो गया और आजतक उसको धर्म काँटा ही कहा जाता है।


यदि आपको यह रोचक जानकारी Rochak Jankari #3 भारी वजन तोलने वाले कांटे को "धर्म काँटा" क्यों कहा जाता है? bhari wajan tolne wale kaante ko dharamkaanta kyu kahte hain? पसंद आई  तो कृपया शेयर करना ना भूलें तथा आपके दिमाग में भी कोई ऐसा ही सवाल हो तो हमें अवश्य कमेंट बॉक्स में बताएं, हम आपके सवाल का उत्तर देने की पूरी कोसिस करेंगे, धन्यवाद!



Also Read - (यह भी पढ़ें)