Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh in hindi हिमांचल प्रदेश का रहस्मयी गाँव मलाणा


Mysterious Village Malana,India


( भारत का रहस्मयी गाँव, मलाणा )




Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh



         हिमांचल प्रदेश के कुल्लू ज़िले के अति दुर्गम इलाके में स्थित है मलाणा गाँव। इसे आप लोग भारत का सबसे रहस्मयी गाँव भी कह सकते हैं।
मलाणा गाँव के लोग खुद को सिकंदर के सैनिकों का वंशज मानते हैं। यहाँ पर भारतीय कानून नहीं चलते, यहां की अपनी ही संसद है जो सारे फैसले करती है।
मलाणा गाँव भारत का इकलौता गाँव है जहाँ मुग़ल सम्राट अकबर की पूजा होती है।

Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh


 तो चलिए जानते हैं इस रहस्मयी गाँव के बारे में रहस्मयी बातें, जहाँ बाहरी व्यक्तियों के कुछ भी छूने पर 1000 ₹ से 2500 ₹ तक का जुर्माना देना पड सकता है।


Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh

अपनी विचित्र परम्पराओं लोकतान्त्रिक व्यवस्था के कारण पहचाने जाने वाले इस गाँव में हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक पहुँचते हैं। जिनके रुकने की व्यवस्था इस गाँव में नहीं है। पर्यटक गाँव के बहार टेंट में रहते हैं।

Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh

अगर इस गाँव में किसी ने मकान-दूकान या यहाँ के किसी भी निवासी को छुआ तो यहाँ के लोग उस व्यक्ति से 1000₹ जुर्माना वसूलते हैं।

Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh

ऐसा नहीं है कि यहाँ के निवासी यहाँ आने वाले लोगों से जबरिया वसूली करते हों। मलाणा के लोगों ने यहाँ हर जगह नोटिस बोर्ड लगा रखे हैं। इन नोटिस बोर्ड पर साफ साफ चेतावनी लिखी गयी है।
गाँव के लोग बाहरी लोगों पर हर पल निगाह रखते हैं, जरा सी लापरवाही भी यहाँ आने वाले लोगों पर भारी पड़ जाती है।

Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh

मलाणा गाँव में कुछ दुकानें भी हैं। इन पर गाँव के लोग तो आसानी से सामान खरीद सकते हैं, पर बाहरी लोग दूकान में नहीं जा सकते हैं न दूकान को छू सकते हैं।

Mysterious Village Malana in Himachal Pradesh

बाहरी ग्राहकों को दूकान के बहार से ही खड़े होकर सामान मांगना पड़ता है। दुकानदार पहले सामान की कीमत बताता है। रुपये दूकान के बाहर रखवाने के बाद सामान भी बहार रख देते हैं।




रहस्मयी गाँव मलाणा


दोस्तों ये पोस्ट आपको कैसी लगी,कमेंट करके जरूर बताये। दुनियां को अज्ञानता रुपी अन्धकार को ज्ञान रूपी प्रकाश से ही दूर किया जा सकता है, स्वार्थी मत बने इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ भी शेयर करें।

0 comments: