विश्व अहिंषा दिवस यानि गाँधी जयंती | Gandhi Jayanti 2017 Hindi

Gandhi Jayanti Speech 2017 In Hindi

Mahatma Gandhi




"Gandhi Jayanti" Mohandas Karamchand Gandhi गांधी जयंती मोहनदास करमचन्द गांधी के सम्मान में मनाया जाने वाला एक राष्ट्रीय पर्व है | गांधीजी के जन्मदिवस का प्रतीक 2 अक्टूबर( 2 October ) गाँधी जयंती का दिन पूरे भारतवर्ष India में राजपत्रित छुट्टी घोषित है |
इस दिन को मनाने की बड़ी महत्ता है क्योंकि गाँधी जयंती केवल एक दिवस नहीं है बल्कि भारतीय जनमानस के लिए एक आदर्श भी है | इसलिए इस दिन महात्मा गांधी के आदर्शों को याद करने के लिए गाँधी जयंती मनाया जाता है |

Mahatma Gandhi With His Wife Kasturba Gandhi

2 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस International Day Of Non-Voilence के रुप में भी मनाया जाता है क्योंकि अपने पूरे जीवन भर वह अहिंसा के उपदेशक रहे। 15 जून 2007 को संयुक्त राष्ट्र सामान्य सभा द्वारा 2 अक्टूबर को अंतरराष्ट्ररीय अहिंसा दिवस के रुप में घोषित किया गया है। हमलोग हमेशा बापू को शांति और सच्चाई के प्रतीक के रुप में याद करेंगे। बापू का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के छोटे से शहर पोरबंदर में हुआ था जबकि उन्होंने अपने पूरे जीवनभर बड़े-बड़े कार्य किये। वह एक वकील थे और उन्होंने अपनी कानून की डिग्री इंग्लैंड से ली और वकालत दक्षिण अफ्रीका में किया। “सच के साथ प्रयोग” के नाम से अपनी जीवनी में उन्होंने स्वतंत्रता के अपने पूरे इतिहास को बताया है। जब तक की आजादी मिल नहीं गयी वह अपने पूरे जीवन भर भारत की स्वतंत्रता के लिये अंग्रेजी शासन के खिलाफ पूरे धैर्य और हिम्मत के साथ लड़ते रहे।

Also Read: गूगल से आप क्या समझते हो? ये इन्टरनेट की दुनिया की क्रांति है, नहीं समझे तो खुद ही पढ़ लो ...interesting facts about google in hindi
महात्मा गांधी Mahatma Gandhi विश्व के महानतम नेताओं में से एक है | इनके अहिंसात्मक विचारों का लोहा पूरे संसार ने माना है और इसीलिए 2 अक्टूबर गांधी जयंती पर हमारे प्यारे बापू को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी याद किया जाता है | यह विशेष दिन विश्व में अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है |
महत्मा गांधीजी अहिंसा के पुजारी थे | वह सत्य की राह दिखाने वाले थे और सबसे महत्वपूर्ण बात वह भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के निदेशक थे | इन्हें अनौपचारिक रूप से भारत का “राष्ट्रपिता” भी कहा जाता है |
सादा जीवन और उच्च विचार सोच ( Simple Living And High Thinking ) के व्यक्ति थे गाँधी जी जिसको एक उदाहरण के रुप में उन्होंने हमारे सामने रखा। वो धुम्रपान, मद्यपान, अस्पृश्यता और माँसाहारी के घोर विरोधी थे। भारतीय सरकार द्वारा उनकी जयंती के दिन शराब पूरी तरह प्रतिबंधित है। वो सच्चाई और अहिंसा के पथ-प्रदर्शक थे जिन्होंने भारत की आजादी के लिये सत्याग्रह आंदोलन की शुरुआत की। नयी दिल्ली के राजघाट पर इसे ढ़ेर सारी तैयारीयों के साथ मनाया जाता है जैसे प्रार्थना, फूल चढ़ाना, उनका पसंदीदा गाना “रघुपति राघव राजा राम” आदि बजाकर गाँधीजी को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। मैं आप सबसे उनके एक महान कथन को बाँटना चाहूँगा “व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित प्राणी है, वो जो सोचता है वही बन जाता है”।

loading...

0 comments: