खाने के बाद मीठा क्यों खाना चाहिए ? Khane ke baad mitha kyu khana chahiye

खाने के बाद मीठा क्यों खाना चाहिए ?

khane ke baad mitha kyu khana chahiye
image source


घर में, पार्टी में या फिर किसी फेस्टिवल पर या रेस्टोरेंट में आप सबसे पहले नमकीन खाना जैसे- चपाती, दाल, सब्जी या चावल आदि खाते हैं और उसके बाद ही कुछ मीठा खाते हैं। पूर्वजों का भी यही मानना है कि भोजन की शुरुआत हमेशा मसालेदार खाने से करनी चाहिए और मीठा खाकर समाप्त करना चाहिए।


WHY EAT SWEET AFTER MEAL ?




खाने के बाद ही मीठा क्यों परोसा जाता है ? खाने से पहले क्यों नहीं ? जब कभी हम खाना खाते हैं, तो सबसे पहले हमें मसालेदार और तीखा खाना ही क्यों दिया जाता है ? ये कुछ ऐसे सवाल हैं, जिसको लेकर आम लोगों में अलग - अलग धारणाएं हैं | हमारे पूर्वज भी इसी तरह से खाना खाने के क्रम पर जोर देते रहे हैं | इस तरह से खाना खाने का क्रम वैज्ञानिक तौर पर भी सही साबित होता है | जब हम मसालेदार खाना खाते हैं, तो हमारा शारीर खाने को पचाने वाले रसायनों को उत्सर्जित करता है | जिससे हमारी पाचन क्रिया तेजी से काम करती है |

Also Read: सावधान! यदि केले खरीदने जा रहे हो तो, जरा ये भी पढ़ते जाओ | harmful side effect of carboid in bananas

इसके उलट मीठी चीजों में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्र काफी अधिक होती है,जो पाचन क्रिया को धीमा कर देते हैं | साथ ही साथ उसी समय पर खाने में शक्कर लेने पर अमीनो एसिड ट्राईप्तोफैन का अवशोषण बढ़ जाता है |  ट्राईप्तोफैन का सीधा सम्बन्ध सेरोटोनिन से है | ट्राईप्तोफैन सेरोटोनिन के स्तर को शारीर में बढ़ा देता है | दरअसल, सेरोटोनिन के कारण ही आप स्वस्थ महसूस कर पाते हैं | इसे हमें खाने के अंत में ही महसूस करना चाहिए, क्योकि इसके बाद खाने की इच्छा भी ख़त्म हो जाती है | इस तरह देखा जाये तो वर्षों से हम जिस आदत का पालन करते आरहे हैं, वह दरअसल, सेहत के लिए फायदेमंद है | Also Read: आओ बतायें तुम्हें अंडे का फण्डा । Egg Facts In Hindi

साथ ही यह भी ध्यान दे की सफ़ेद शक्कर से बनी मिठाइयाँ सेहत को नुक्सान पहुंचती सकती हैं | सफ़ेद शक्कर के बजाय आप गुड़ और ब्राउन शुगर से बनी मिठाइयों को तवज्जो दें |
आँखों की सेहत के लिए अक्सर चिंतित रहते हैं की क्या किया जाए, जो आँखें महफूज़ रहे. बदलती लाइफस्टाइल और प्रदुषण भरे माहौल में कम उम्र में ही लोगों को चश्मा लग जाता है. इसके बाद आई ड्राइनेस ( eye dryness ) से लेकर आँखों में खुजली जैसी समस्याएं शुरू होती हैं। ऐसे में हम पहले ही सचेत हो जाएं, तो आँखों को स्वस्थ रख सकते हैं। इसके लिए जरुरी है - सही डाइट और एक्सरसाइज ( proper diet and exercise for eyes ) जो डाइट हमारी बॉडी के लिए फायदेमंद है सामान रूप से वही हमारी आँखों की सेहत के लिए भी अच्छी है। आँखों की सेहत के लिए अक्सर चिंतित रहते हैं की क्या किया जाए, जो आँखें महफूज़ रहे. बदलती लाइफस्टाइल और प्रदुषण भरे माहौल में कम उम्र में ही लोगों को चश्मा लग जाता है. इसके बाद आई ड्राइनेस ( eye dryness ) से लेकर आँखों में खुजली जैसी समस्याएं शुरू होती हैं। ऐसे में हम पहले ही सचेत हो जाएं, तो आँखों को स्वस्थ रख सकते हैं। इसके लिए जरुरी है - सही डाइट और एक्सरसाइज ( proper diet and exercise for eyes ) जो डाइट हमारी बॉडी के लिए फायदेमंद है सामान रूप से वही हमारी आँखों की सेहत के लिए भी अच्छी है।

0 comments: