मुकेश अंबानी कौन-सा फोन और सिम इस्तेमाल करते हैं?

मुकेश अंबानी कौन-सा फोन और सिम इस्तेमाल करते हैं?




मुकेश अंबानी के मोबाइल सिमकार्ड और मोबाइल पर। मुकेश अंबानी ने कुछ समय पहले दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि वह अब जियो सिम यूज करते हैं। मुकेश को पुराना नेटवर्क बदलकर उन्हें जियो की सलाह उनकी बेटी ने दी थी। वह जियो सिम के पहले एयरटेल की सिम यूज करते थे।


मुकेश अंबानी के पास ब्लैकेबेरी और एचटीसी का मोबाइल है। वह इन मोबाइल पर्सनल कॉल करते हैं। हालांकि आपको बता दें कि मुकेश अंबानी और बाकी वीवीआईपी सेलेब्रिटी स्पेशल नंबर यूज करते हैं। इन मोबाइल नंबर्स को न तो आसानी से ट्रैस किया जा सकता है और न ही ये आम लोगों की पहुंच में होते हैं। प्रोफेशनल और बिजनेस कॉलिंग के लिए ये सेलेब्रिटी वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल यानी VOIP सर्विस यूज करते हैं।

Also Read - यह भी पढ़ें


लॉकडाउन और कर्फ़्यू मे क्या अंतर है? शर्त लगा लो 90% लोग नहीं जानते

लॉकडाउन और कर्फ़्यू मे क्या अंतर है? शर्त लगा लो 90% लोग नहीं जानते - Difference Between Lockdown And Curfew in Hindi





Curfew कर्फ़्यू- कर्फ़्यू और लॉकडाउन के बीच मे प्रशासन की ओर से दी जाने वाली छूट का फर्क होता है। अगर किसी इलाके मे दंगे या हिंसा होती है और प्रशासन स्थिति पर काबू पाने के लिए कर्फ़्यू लगाता है, तो जीतने समय के लिए कर्फ़्यू लगता है उतने समय के लिए जरूरी सेवाएँ जैसे स्कूल-कालेज, बाजार और बैंक भी बंद रहते हैं। जब कर्फ़्यू मे ढील दी जाती है, तभी ये सारी सेवाएँ भी लोगों को मुहैया कराई जाती हैं। अगर कोई व्यक्ति कर्फ़्यू का उल्लंघन करता है तो उस पर जुर्माना या गिरफ्तारी हो सकती है।


Lockdown लॉकडाउन- लॉकडाउन मे जरूरी सेवाएँ बंद नहीं की जाती हैं। जैसा की अभी इस समय हमारे देश मे कोरोना वायरस की वजह से पूरा देश लॉकडाउन किया जा चुका है, लेकिन सभ जगह अस्पताल, बैंक, डेरी, जरूरी सामान के लिए दुकानें खुली हुई हैं। लॉकडाउन के समय लोगों को उनके इलाके या घरों मे रहने के निर्देश दिये जाते हैं और वहाँ से बाहर ना निकालने की सख्त हिदायत दी जाती है। नियम तोड़ने पर पुलिस समझती है तथा बहुत ही जरूरी हालात मे कार्यवाही भी की जाती है।


Also Read - यह भी पढ़ें


साँप की जीभ दो हिस्सों मे कटी हुई क्यो होती है? वजह जानकर चौंक जाओगे आप

साँप की जीभ दो हिस्सों मे कटी हुई क्यो होती है? वजह जानकर चौंक जाओगे आप




जहां इंसान की जीभ का मुख्य कार्य स्वाद पहचान करना होता है तो वहीं साँप की जीभ सूंघने की प्रक्रिया मे भी मुख्य भूमिका निभाती है।

दोस्तों साँप की जीभ दो हिस्सों मे कटी होने से इसकी सतह का क्षेत्रफल अधिक हो जाता है और इसको क्षीण गंध को समझना भी आसान हो जाता है।


साँप की जीभ दो हिस्सों मे कटी होने से साँप यह भी अंदाजा लगा लेता है की गंध किस दिशा से अरही है। इससे उसे शिकार करने मे बहुत सहता मिलती है, दोस्तों दरअसल बात यह है की विष साँप की जीभ से नहीं निकलता बल्कि इसके लिए साँप के पास खास प्रकार के विष दांत होते हैं।


Also Read - यह भी पढ़ें

भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती हैं? ये एक ट्रेन तो चलती है अंग्रेजों के जमाने से

भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती हैं? ये एक ट्रेन तो चलती है अंग्रेजों के जमाने से



भारत से बंगलादेश दो ट्रेन चलती हैं जो भारत के कोलकाता से बांग्लादेश के ढाका तक चलती हैं।


मैत्री एक्सप्रेस- इस ट्रेन का साल 2008 मे शुभारंभ किया गया था।

बंधन एक्सप्रेस- इसका शुभारंभ साल 2017 मे किया गया था। ये ट्रेन सप्ताह मे 6 दिन चलती है जो कोलकाता शहर से 375km दूर ढाका शहर तक जाती हैं।

दोस्तों, भारत से पाकिस्तान के बीच भी दो ट्रेन चलती हैं। और ये काफी लोकप्रिय भी हैं क्योंकि भारत-पाकिस्तान बार्डर को दुनिया का सबसे खतरनाक बार्डर मे गिना जाता है।


समझौता एक्सप्रेस- समझौता एक्सप्रेस भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली ट्रेन है भारत मे यह ट्रेन दिल्ली से पंजाब के अटारी श्यामसिंह रेलवे स्टेशन तक जाती है और अटारी से इस ट्रेन को पाकिस्तान रेलवे का इंजन वाघा होते हुए लाहोर तक ले जाता है।

थार एक्सप्रेस- भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली यह एक व्यापक रेल सेवा है। दोनों देशों के बीच चलने वाली यह सबसे पुरानी रेल सेवा है। ये ट्रेन आजादी से पहले अविभाज्य हिंदुस्तान के समय से चलती आ रही है। पहले इसका नाम सिंघ मेल हुआ करता था। साल 1892 मे हैदराबाद-जोधपुर रेलवे के तहत इसे शुरू किया गया था। हैदराबाद-जोधपुर रेलवे लाइन को पाकिस्तान के कराची और पेशावर रेलवे लाइन से जोड़ती है।

Also Read - यह भी पढ़ें


कुहनी टकराने से करंट क्यों लगता है? वजह जानकर चौंक जाओगे

कुहनी टकराने से करंट क्यों लगता है? वजह जानकर चौंक जाओगे




कुहनी का एक विशेष हिस्सा कहीं टकरा जाता है तो हमारा दिमाग सुन्न पड़ जाता है और अंदर ही अंदर आपको झनझनाहट महसूस होने लगती है। दोस्तों, कुहनी की जिस हड्डी के कहीं टकराते ही हमें तेज करंट लगता है। उसे सामान्य बोलचाल मे फनी बोन कहा जाता है।


चिकित्सा विज्ञान की भाषा मे बात करें तो फनी बोन असल मे अल्नर नर्व (तंत्रिका) होती है। यह नर्व हमारी गर्दन (कॉलर बोन) कंधे और हाथों से होते हुए जाती है और कलाई के पास से टकराकर अनामिका (रिंग फिंगर) और छोटी उंगली पर खत्म होती है। दरअसल नर्व्स का काम मस्तिष्क से मिलने वाले संदेशों को शरीर के बाकी अंगों तक लाना, ले जाना होता है। कुहनी से गुजरने वाला हिस्सा केवल त्वचा और फैट से ढंका होता है। ऐसे मे जैसे ही कुहनी कहीं से टकराती है तो सीधा इस नर्व पर झटका लगता है। इसे ही हम करंट लगना कहते हैं।


Also Read - यह भी पढ़ें

अंग्रेजी मे बाय-बाय के साथ टाटा क्यों बोलते हैं? वजह जानकर हैरान रह जाओगे

अंग्रेजी मे बाय-बाय के साथ टाटा क्यों बोलते हैं? वजह जानकर हैरान रह जाओगे




दोस्तों बाय बाय और टाटा ये दोनों अंग्रेजों की देन हैं। और अब आपके दिमाग मे यही प्रश्न आया होगा की आखिर अंग्रेज़ बाय बाय के साथ टाटा क्यो करते थे?


आइये दोस्तों आज हम आपको इस प्रश्न का उत्तर देते हैं, अंग्रेज़ लगभग पूरे विश्व मे शासन करते थे। जब अंग्रेज़ इंग्लैंड अपने वतन हवाई सफर या समुद्र के रास्ते से जाते थे तब कई बार दुर्घटनाग्रस्त हो जाते थे, तब अंग्रेज़ एक दूसरे को सी यू बाय बाय ट ट बोलने का कारण जब अंग्रेज़ सी यू बाय बोलते थे तब अपना दायाँ हाथ खुला रख कर हाथ को दाएं व बाएँ करते थे तब उनका हाथ अंग्रेजी का अक्षर T बनाता था।


दोस्तों अंग्रेज़ ट ट करते थे और हम लोग टाटा करते हैं। इस पोस्ट को शेयर करना ना भूलें, धन्यवाद।

Also Read - ( यह भी पढ़ें )




इस भारतीय फिल्म मे हैं 71 गाने, 90% लोग नहीं जानते नाम

इस भारतीय फिल्म मे हैं 71 गाने, 90% लोग नहीं जानते नाम



दोस्तों, भारतीय फिल्मों में संगीत का विशेष महत्व रहा है। विश्व में सबसे ज़्यादा गानों वाली फिल्म का रिकॉर्ड बनाया है भारतीय फिल्म "इंद्रसभा" ने।


साल 1932 मे रिलीज हुई फिल्म 'इंद्रसभा' मे आज तक की बनी सभी फिल्मों के मुक़ाबले सबसे ज्यादा गाने हैं, आपको यकीन नहीं होगा की इस फिल्म मे पूरे 71 गाने थे।


उर्दू भाषा में निर्मित यह एक संगीत विशेष फिल्म है जिसमें 71 गानें हैं। यह फिल्म 211 मिनट लम्बी है। दोस्तों आपको यह जानकार और भी आश्चर्य होगा की इन 71 गानों में 31 ग़ज़लें, बनारस और गया की 9 ठुमरियाँ, 4 होली, 15 गाने, 2 चौबोला और 5 छंद हैं।

Also Read - ( यह भी पढ़ें )



कौन सा मुख्यमंत्री शपथ लेते ही मर गया था? 90% लोग नहीं जानते ये बात

कौन सा मुख्यमंत्री शपथ लेते ही मर गया था? 90% लोग नहीं जानते ये बात




दोस्तों भारत मे चुनावी उठा-पटक चलती ही रहती है। कभी-कभी तो कुछ प्रदेशों के मुख्यमंत्री अपना पाँच साल का कार्यकाल भी पूरा नहीं कर पाते हैं और उनकी कुर्सी चली जाती है। भारत मे वैसे तो कई मुख्यमंत्री बहुत कम समय के लिए ही मुख्यमंत्री बने है लेकिन उनमे से भी ये मामला थोड़ा अनोखा है।


जी हाँ, महज मुख्यमंत्री की सपथ लेते ही मृत्यु हो जाना। शमशेर सिंह कड़ोलिया ऐसे मुख्यमंत्री थे जो शपथ लेने के साथ ही मर गए थे।

दोस्तों, इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर अवश्य करें, धन्यवाद।

Also Read - ( यह भी पढ़ें )




लोकसभा मे ग्रीन और राज्यसभा मे रेड कारपेट क्यों बिछाया जाता है?

लोकसभा मे ग्रीन और राज्य सभा मे रेड कारपेट क्यों बिछाया जाता है?




लोकसभा मे ग्रीन कारपेट बिछाया जाता है और राज्यसभा मे रेड कारपेट। दोस्तों ऐसा किसी संयोगवश नहीं किया जाता, बल्कि सोच समझ कर विचार कर किया जाता है।

दोस्तों, चूंकि लोकसभा भारत की जनता का सीधे प्रतिनिधित्व करती है, इसलिए इन प्रतिनिधियों के जमीन से जुड़े होने के प्रतीक के तौर पर हरे रंग का इस्तेमाल होता है। घास या बड़े स्तर पर कृषि का प्रतीक हरे रंग को माना जाता है वैसे भी भारत गांवों का देश है।


राज्यसभा संसद का उच्च सदन कहलाता है। इसमे प्रतिनिधि सीधे चुनाव के जरिये नहीं बल्कि राज्यों के जन प्रतिनिधियों के आंकड़ों के हिसाब से पहुँचते हैं। राज्यसभा मे रेड कारपेट बिछने के पीछे दो विचार रहे हैं। एक तो लाल रंग राजसी गौरव का प्रतीक रहा है और दूसरा लाल रंग को स्वाधीनता संग्राम मे शहीदों के बलिदान का प्रतीक भी समझा गया है। इस विचार के चलते राज्यसभा मे रेड कारपेट बिछाया जाता है।

Also Read - यह भी पढ़ें

सबसे ज्यादा सस्ता सोना किस देश मे मिलता है?

सबसे ज्यादा सस्ता सोना किस देश मे मिलता है?





सबसे सस्ता सोना दुबई मे मिलता है। दोस्तों सोने का ज्यादा से ज्यादा भंडारण दुनिया का लगभग हर देश करना चाहता है।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल ने रिपोर्ट जारी कर दुनिया मे सबसे अधिक सोने के भंडार वाले देशों मे अमेरिका, जापान और रूस जैसे विकसित और शक्तिशाली देशों के साथ भारत भी शामिल है।


दोस्तों एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत के पास कुल 566.23 टन सोने का भंडार है। जबकि अमेरिका के पास 8133.5 टन सोने का भंडार है।


Also Read - यह भी पढ़ें

मनुष्य की आँख का वजन कितना होता है?

मनुष्य की आँख का वजन कितना होता है?





मनुष्य की आँखें उसके जीवन को सरल रूप से व्यतीत करने का एक साधन प्रदान कराती हैं। मानव नेत्रा एक अंग है जो प्रकाश या रोशनी के प्रति प्रतिक्रिया कर मनुष्य को देखने मे सहायता करता है।


दोस्तों मानव नेत्र 1 करोड़ से भी ज्यादा रंगों को पहचान सकती हैं। आँखें हमारे शरीर की प्रमुख ज्ञानेन्द्रियों मे से एक है। मनुष्य के दोनों नेत्रों का व्यास 2.5 सेंटीमीटर होता है, और दोस्तों हमारी आँखों का कुल वजन 7.5 ग्राम होता है।

Also Read - यह भी पढ़ें




कहाँ पर लगातार 42 साल तक दिन और 42 साल तक रात रहती है?

कहाँ पर लगातार 42 साल तक दिन और 42 साल तक रात रहती है?



दोस्तों वैसे तो हमारा ब्रह्मांड बहुत विशाल है, इतना विशाल की हमारी कल्पनाएँ भी बहुत छोटी पद जाती हैं इसके विशालता के सामने। वैसे विज्ञान के इस दौर मे हमने इस ब्रह्मांड से बहुत कुछ सीखा है और बहुत कुछ इसके बारे मे जाना भी है।


दोस्तों जितना हमने ब्रह्मांड को जाना है उतना ही हमे आश्चर्य हुआ है, ऐसा ही आश्चर्य है जहां 42 साल तक दिन और 42 साल तक ही रात होती है?


 जी हाँ, दोस्तों यूरेनस गृह मे 42 साल रात और 42 साल तक दिन होता है। यूरेनस को अरुण ग्रह के नामे से भी जाना जाता है, चूंकि इस ग्रह पर कई तरह की गैस पाई जाती हैं इसलिए इसे गैस दानव भी कहा जाता है।
दोस्तों आपसे एक अनुरोध है की कृपया हमें फॉलो करें, तथा लाइक और शेर करना ना भूलें, धन्यवाद।



Also Read - ( यह भी पढ़ें )


साँप अपनी केंचुली क्यो उतारता है? 99% फ़ेल

साँप अपनी केंचुली क्यो उतारता है?




प्रत्येक रीढ़धारी प्राणियों मे त्वचा की ऊपरी परत समय-समय पर मृत हो जाती है तथा इनकी वृद्धि व विकास के साथ-साथ मृत त्वचा का स्थान नयी त्वचा ले लेती है।

इसी प्रकार एक निश्चित समय के अंतराल के बाद साँप भी अपनी बाहरी त्वचा को पूरी उतार देता है इसे ही केंचुली उतरना कहते हैं। अपनी त्वचा मे किसी प्रकार की खराबी या नुकसान एक साँप को जल्दी केंचुली उतारने के लिए बाध्य करता है, केंचुली उतारने से एक तो साँप के शरीर की सफाई हो जाती है और दूसरी, त्वचा मे फ़ेल रहे संक्रमण से भी उसे मुक्ति मिल जाती है।

सभी व्यक्तियों के फिंगरप्रिंट अलग-अलग क्यों होते हैं?

सभी व्यक्तियों के फिंगरप्रिंट अलग-अलग क्यों होते हैं?



दोस्तों फिंगरप्रिंट हमारे शरीर मे स्टेम सेल और रिजटाइप सेल से बनते हैं और इन सेल्स पर गर्मी या केमिकल का भी प्रभाव नहीं पड़ता है। यहाँ तक की अगर आप अपनी चमड़ी उतार भी देंगे तो भी यह खराब नहीं होते क्योंकि यह आपकी खाल के भीतरी हिस्से तक रहते हैं।

यही कारण है की हर व्यक्ति का फिंगरप्रिंट अलग-अलग होता है।  दोस्तों आपको यह रोचक सवालों के जवाब कैसे लगे हमें कमेंट मे जरूर बताए और हाँ दोस्तों इस आर्टिक्ल को अपने दोस्तों के साथ शेर करना ना भूलें, धन्यवाद।



14 साल की उम्र से हैं रिलेशनशिप में! जवान होने के लिए लिया था हार्मोनल इंजेक्शन का सहारा

फिल्म कोई मिल गया आज से लगभग 17 साल पहले साल 2003 में 8 अगस्त के दिन रिलीज हुई थी जिसमें ऋतिक रोशन, प्रीति जिंटा जैसे सितारे नजर आए थे। इस फिल्म में हंसिका मोटवानी चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर नजर आई थीं और इस फिल्म की वजह से हंसिका मोटवानी को काफी लोकप्रियता मिली। साल 2007 में रिलीज हुई फिल्म आप का सुरूर में हंसिका मोटवानी को देखकर हर कोई दंग रह गया था। वह 4 साल बाद किसी फिल्म में नजर आई थीं।




हंसिका मोटवानी 4 सालों में ही काफी बड़ी दिखने लगी। इसके पीछे का कारण हार्मोनल इंजेक्शन था। हंसिका मोटवानी ने जल्दी जवान दिखने के लिए हार्मोनल इंजेक्शन का सहारा लिया था। इसी वजह से वह काफी जल्दी जवान दिखने लगी। हंसिका मोटवानी जब 14 साल की थी तब से वे रिलेशनशिप में हैं।




एक रिपोर्ट के मुताबिक हंसिका मोटवानी और सिलाम्बरासन रिलेशन में हैं। सिलाम्बरासन भारतीय फिल्म एक्टर, डायरेक्टर और लेखक हैं। हंसिका मोटवानी का जन्म 9 अगस्त 1991 को मुंबई में हुआ था जो कि अब 29 साल की होने वाली है।




जब यह 16 साल की थी तब वे पहली बार किसी तेलुगू फिल्म में नजर आई थीं। हंसिका मोटवानी ने शाका लाका बूम बूम, करिश्मा का करिश्मा, देश में निकला होगा चांद, क्योंकि सास भी कभी बहू थी जैसे टीवी सीरियलों में काम करके जबरदस्त लोकप्रियता हासिल की।



अपने पति के पिता के साथ रोमांस कर चुकी हैं यह अभिनेत्री, नाम जानकर यक़ीन नहीं होगा

स्टार्स की असल ज़िन्दगी में उनके बीच रिश्ता भले ही कुछ और हो लेकिन फिल्मों में कुछ और ही होता हैं. कई स्टार्स ऑनस्क्रीन भाई बहन का रिश्ता निभाते हैं लेकिन असल ज़िन्दगी में उनके बीच पति पत्नी का रिश्ता होता हैं. आज हम एक ऐसी एक्ट्रेस के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने अपने पति के पिता के साथ फिल्म में रोमांस किया था.




जिसका नाम हैं सामंथा अक्किनेनी जो साउथ फिल्म इंडस्ट्री की सबसे लोकप्रिये अभिनेत्री हैं और साउथ के जाने माने अभिनेता नागा चैतन्य की असल ज़िन्दगी में पत्नी हैं और साउथ के सुपरस्टार नागार्जुन की बहू हैं.




जानकारी के लिए बता दे, सामंथा अक्किनेनी ने साल 2018 में रिलीज हुईं फिल्म में अपने पति के पिता नागार्जुन के साथ रोमांस किया था. जिसकी वजह से सामंथा अक्किनेनी काफी सुर्खियों में आ गई थी.





दोनों की यह फिल्म भी सुपरहिट साबित हुईं थी और फिल्म ने भी बॉक्स ऑफिस पर अच्छा खासा कलेक्शन किया था. सामंथा अक्किनेनी अपने करियर के साथ साथ सोशल मीडिया पर भी सबसे ज्यादा एक्टिव रहती हैं और आये दिन अपनी खूबसूरत तस्वीरें शेयर करती रहती हैं.



रविवार को मोदी ने लगाया देश मे जनता कर्फ़्यू On corona virus medical emergency modi applied janta curfew this sunday

Latest News On Corona Virus: रविवार को मोदी ने लगाया देश मे जनता कर्फ़्यू On corona virus medical emergency modi applied janta Curfew this sunday




नमस्कार दोस्तों, आज हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीवी पर लाइव आकार देश को संबोधित किया।  जिसमे उन्होने कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित किया तथा इससे निपटने के उपाय और सरकार के कदम के बारे मे पूरी जानकारी दी।



दोस्तों प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी बताया की आज की युवा पीढ़ी शायद यह ना समझे परंतु कोरोना वायरस द्वितीय विश्व युद्ध मे जितना सभी देशों मे नुकसान हुआ था, यह उससे भी ज्यादा है। 

Corona Virus Latest News


1.30 करोड़ देशवाशियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा " मैंने जब भी जनता से कुछ भी मांगा है उन्होने मुझे दिया है आज वह फिर जनता से कुछ मांग रहे हैं। उन्होने आगे कहा की वह जनता से उनके कुछ हफ्ते चाहते हैं जिससे इस महामारी को फैलने से रोका जा सके। 



प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे देश की जनता से यह अपील की है की, कोई भी व्यक्ति 22 मार्च रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जरा भी घर से बाहर ना निकले। यह जनता के लिए कोरना वायरस से लड़ने के लिए जनता कर्फ़्यू है। उन्होने लोगों से कहा की वे हर हालत मे इस जनता कर्फ़्यू का पालन करें।