राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन-National digital health mission sarkari yojana details

Spread the love

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन – National digital health mission

National digital health mission sarkari yojna details
National digital health mission sarkari yojna details
National digital health mission
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार, 15 अगस्त को 74 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए सरकार के “राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन” की घोषणा की। यह मिशन आयुष्मान भारत बीमा योजना की तरह सरकार की एक और प्रमुख परियोजना है।
ललकिले की प्राचीर से हमारे दुनियाभर मे लोकप्रिय प्रधानमंत्री ने National digital health mission यानि “राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन” की घोषणा की है। – sarkari yojana
पीएम मोदी ने कहा कि यह परियोजना एक स्वस्थ भारत बनाने के लिए प्रौद्योगिकी की शक्ति का लाभ उठाएगी। ऐसा कहा जा सकता है की स्वस्थ्य के क्षेत्र मे एक नयी क्रांति आने वाली है। क्या आपको पता है, इस परियोजना की पहली बात कब की गई थी? नहीं,
आइये मैं आपको बताता हूँ, इस योजना का खाका कथित तौर पर 2019 में लॉन्च किया गया था, और खुले डिजिटल सिस्टम का लाभ उठाकर सस्ती और उच्च गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की मांग की गई थी।
आज इस पोस्ट मे मैं आपको इस नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन से जुड़ी ढेर सारी जानकारी देने वाला हूँ, इस आर्टिक्ल को पूरा पढ़ें

National digital health mission sarkari yojana detail – FAQ

National digital health mission sarkari yojna details
National digital health mission sarkari yojna details
National digital health mission
क्या है राष्ट्रीय डिजिटल स्वस्थ्य मिशन?

यह सरकार द्वारा घोषित एक डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र है जिसके तहत प्रत्येक भारतीय नागरिक के पास अद्वितीय स्वास्थ्य आईडी, डिजीटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड के साथ-साथ डॉक्टरों और स्वास्थ्य सुविधाओं की एक रजिस्ट्री होगी।

हेल्थ आईडी क्या है? यह क्या करेगा?

प्रत्येक नागरिक को एक यूनीक हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी जिसमें एक एकल आईडी के माध्यम से एक आम डेटाबेस में उनके रोगों, निदान, रिपोर्ट, दवा आदि का विवरण होगा। यह अनिवार्य रूप से उनके सभी स्वास्थ्य रिकॉर्डों का एक डिजीटल संस्करण होगा। – sarkari yojana

यह डिजिटल डेटाबेस देश भर के डॉक्टरों और स्वास्थ्य सुविधाओं की रजिस्ट्री से जुड़ा होगा। यानि यह एक ऐसा आईडी कार्ड होगा जिसमे आपकी सभी बीमारी तथा उन बीमारियों को ठीक करने के लिए दी गयी दवाइयाँ तथा अपने किस डॉक्टर से किस बीमारी का इलाज करवाया है। यदि आप किसी भी डॉक्टर के पास जाओगे तो वह आपकी आईडी के माध्यम से खुद ही जन लेगा की आपको पहले क्या बीमारी रह चुकी हैं और उनको ठीक करने के लिए किस डॉक्टर ने क्या-क्या दवाइयाँ आपको दी थी। यह वाकई मे एक अनोखी पहल है भारत के स्वस्थ्य संबंधी समस्याओं से निपटने के लिए।

 यह हेल्थ आईडी कैसे काम करेगी?

जैसा की मैंने आपको पहले ही बता दिया था की यह एक ऐसा आईडी कार्ड होगा जिसमे आपकी सभी बीमारी तथा उन बीमारियों को ठीक करने के लिए दी गयी दवाइयाँ तथा अपने किस डॉक्टर से किस बीमारी का इलाज
करवाया है। पीएम मोदी ने कहा कि एक डॉक्टर ने जो भी दवा निर्धारित की है, उसके बारे में यह सब जानकारी और साथ ही यह निर्धारित किया गया था कि रिपोर्टें किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य आईडी से जुड़ी होंगी या नहीं। यह एक रोगी के लिए एक डिजीटल “स्वस्थ्य खाता” (स्वास्थ्य पुस्तक)
जैसा होगा और इसमें उनके मेडिकल इतिहास, चिकित्सकों से परामर्श, किए गए परीक्षण आदि का विवरण होगा। स्वास्थ्य आईडी कथित तौर पर एक मोबाइल ऐप के रूप में होगी।

 मैं इस आईडी का उपयोग कहां कर सकता हूं? क्या मेरा डेटा सुरक्षित रहेगा?

अब आते हैं हर भारतीय के सबसे पहले पूछे जाने वाले सवाल पर, क्या हमारा डेटा जो हम राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन – National digital health mission की App को देंगे वो सुरक्षा की दृष्टि से कितना surakshit है। आइये बताते हैं आपको,
प्रधानमंत्री जी ने इस स्वस्थ्य मिशन की घोषणा करते हुए कहा की यह आईडी कथित तौर पर राज्यों, अस्पतालों, नैदानिक ​​प्रयोगशालाओं और फार्मेसियों में लागू होगी। सरकार ने आश्वासन दिया है कि प्रदान किए गए डेटा को संरक्षित किया जाएगा और स्वास्थ्य रिकॉर्ड केवल एक व्यक्ति द्वारा प्राधिकरण के बाद साझा किया जाएगा। इसी तरह, अस्पतालों और डॉक्टरों को ऐप के लिए विवरण प्रदान करना स्वैच्छिक है। – sarkari yojana

 क्या मेरे लिए National digital health mission मे अपनी आईडी बनवाना या स्वस्थ्य-खाता बनवाना अनिवार्य है?

जी नहीं, सरकार ने कहा है कि राष्ट्रीय डिजिटल स्वस्थ्य मिशन की पहल में नामांकन स्वैच्छिक होगा। यानि कोई भी व्यक्ति अपनी मर्जी से नामांकन करवा सकता है।  सरकार किसी पर ज़ोर या अपनी मर्जी नहीं थोपना चाहती है।

 इस परियोजना का उद्देश्य क्या है?

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन – National digital health mission’s aim पीएम मोदी ने कहा कि यह परियोजना एक स्वस्थ भारत बनाने के लिए प्रौद्योगिकी की शक्ति का लाभ उठाएगी। यानि स्वस्थ्य सेवाओं का डिजिटल विकाश किया जाये।

आगे इस राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन – National digital health mission के बारे मे भारत सरकार के अपडेट किए जाते ही मैं आपको इस स्वस्थ्य मिशन के ऊपर एक विस्तरत पोस्ट प्रदान करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment